मोदी के बाद योगी ने भी दिखाई 56 इंच की ताकत, सुनाया ऐसा फरमान, जिसे देख हिल गए सभी राज्यों के मुख्यमंत्री

0
661

इलाहाबाद : कश्मीर में भले ही सीएम महबूबा पत्थरबाजों और आतंकियों के पक्ष में बातें कर रही हो, मगर यूपी के हालात बिलकुल बदल चुके हैं. सपा द्वारा राज्य में क़ानून का माखौल उड़ाया गया और अपराधियों को पाला-पोसा गया, मगर सीएम योगी ने अब एक ऐसा फैसला लिया, जिसने यूपी के अपराधियों की पैंट गीली कर दी है.

कॉन्ट्रैक्ट किलर्स और शार्प शूटरों को ठोकने के आदेश

सीएम योगी ने यूपी में लगातार अपराधों में लिप्त शार्प शूटरों के खात्मे के आदेश दे दिए हैं. ये शार्प शूटर अच्छा निशाना लगाने में माहिर हैं और लगातार लोगों की हत्याएं कर रहे हैं, जिसके कारण कानून व्यवस्था को चुनौती तो मिल ही रही है, साथ ही योगी सरकार की साख को बट्टा भी लग रहा है.

इन शार्प शूटरों को अब योगी सरकार ने ठिकाने लगाने का फैसला लिया है. सुपारी लेकर मासूम व् बेगुनाह लोगों की हत्याएं करने वाले कॉन्ट्रैक्ट किलर अब यूपी पुलिस के निशाने पर आ गए हैं. अब या तो ये कॉन्ट्रैक्ट किलर चुपचाप आत्मसमर्पण करेंगे, या फिर इनका एनकाउंटर करके इन्हे ठोक दिया जाएगा.

योगी कैबिनेट के स्वास्थ्य मंत्री व सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने इलाहाबाद पुलिस से टॉप 10 शूटरों की लिस्ट मांगी है. अलग-अलग मामलों में कुख्यात व आसपास के जिलों में चिन्हित किए गए 10 बड़े शूटरो के नाम तत्काल रुप से शासन को भेजने का निर्देश उन्होंने दिया है, ताकी इन पर पुलिस कानून का शिकंजा कसे और खाकी का डर पैदा करे.

वकील की हत्या पर रुख सख्त

वैसे तो उत्तर प्रदेश की सत्ता में आने के बाद योगी सरकार लगातार अपराधियों के लिए सिरदर्द बनी हुई है. धड़ाधड़ एनकाउंटर के डर से अपराध का ग्राफ नीचे गिरने के दावे किए जा रहे थे, लेकिन जिस तरह से इलाहाबाद में दिनदहाड़े वकील की गोली मारकर हत्या कर दी गई, उसके बाद से योगी सरकार अब अपना रुख अपराधियों के प्रति और कड़ा करेगी.

इसी के मद्देनजर सरकार ने शूटरो की सूची मांगी है और अब इन सभी को ठिकाने लगाने के आदेश जारी किये गए हैं. योगी सरकार के मुताबिक़ ये शार्प शूटर अब खुले में आम जनता के बीच घूमने के लायक नहीं हैं, इनकी सही जगह या तो जेल है, या फिर ढाई गज जमीन के नीचे.

अब यूपी पुलिस इन्हे उनकी ही भाषा में जवाब देगी. विपक्ष को लगा था कि इलाहाबाद में हुए एडवोकेट हत्याकांड को लेकर योगी सरकार गंभीर नहीं है, मगर अब विपक्ष को बड़ा झटका लगा है. ऐसा पहली बार हुआ है, जब सरकार पूरी तरह से अपना रुख कानून व्यवस्था पर स्पष्ट करती नजर आ रही है और SSP को हटाने के बाद नए पुलिस कप्तान से शार्प शूटरों की सूची मांगी है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि एडवोकेट राजेश श्रीवास्तव जमीन के किसी पुराने केस में पैरवी कर रहे थे. बताया जा रहा है कि इसी केस से हटने के लिए उनपर दबाव बनाया जा रहा था. जब वो नहीं झुके तो उनके नाम की सुपारी दे दी गयी.

व्यक्त की संवेदना

इलाहाबाद से विधायक और योगी सरकार में स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने एडवोकेट राजेश श्रीवास्तव की हत्या के बाद अपनी गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है और परिजनों को हर संभव मदद का आश्वासन दिया है. उन्होंने दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने वह हत्यारोपियों को पकड़े जाने का दावा करते हुए कहा कि अपराधी बख्शे नहीं जाएंगे. सिद्धार्थ नाथ सिंह ने फोन पर वार्ता के दौरान इलाहाबाद का हालचाल जाना और लोगों से शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील भी की.

साफ़ जाहिर है कि आने वाले वक़्त में सुपारी उठाने वाले ऐसे शार्प शूटरों के एनकाउंटर की ख़बरें आने वाली हैं. योगी सरकार के सख्त एक्शन को देख देशभर के राजनेता हैरान हैं, क्योकि आजतक किसी ने भी ऐसे ताबड़तोड़ एक्शन लिए ही नहीं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here