वीडियो: दुनिया की सबसे तेज मिसाइल बनेगी ब्रह्मोस ! हमले का वीडियो देख आप दंग रह जायेंगे…

0
174

केंद्र में बीजेपी की सरकार आने के बाद से पीएम मोदी जी ने स्वदेशी उत्पादन पर खासा ध्यान दिया. जिसके चलते उन्होंने देश हित में कई बड़े फैसले लिए, जो आज कारगर सिद्ध होते नजर आ रहे हैं. ये पीएम मोदी जी का ही कमाल है जो आज भारत को देश ही नहीं बल्कि दुनियाभर में एक अलग पहचान मिल चुकी है. उन्होंने देश की रक्षा के लिए कई बड़े समझौते किये हैं. अब भारत एक ऐसा कारनामा करने जा रहा है जिसे जानकर दुश्मन देशों के होश उड़ जायेंगे.

जानकारी के लिए बता दें भारत विश्व की सबसे तेज और खतरनाक मिसाइल तैयार करने जा रहा है जो दुश्मनों का कुछ ही समय में नष्ट कर देगी. बता दें विश्व की सबसे तेज गति की नीचे उड़ने वाली कम्पूटर निर्देशित सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस उन्नत इंजन के साथ 10 साल के अंदर हाइपरसोनिक क्षमता हासिल कर लेगी.

इसी के साथ वह ध्वनि की गति की 7 गुना की सीमा (मैक-7) को पार कर लेगी. इस मिसाइल को भारत के साथ रूस ने मिलकर विकसित किया है. अब दुश्मन थर-थर कांपने को मजबूर हो जायेंगे. इसकी ताकत जान आप भी दंग रह जाएंगे. भारत की बढ़ती ताकत को देख पाक और चीन गहरे सदमे में पहुंच सकते हैं.

गौरतलब है संयुक्त उपक्रम कंपनी ब्रह्मोस एयरोस्पेस के मुख्य अधिकारी एवं प्रबंधक निदेशक सुधीर मिश्रा ने बातचीत करते हुए कहा है कि ‘हमें हाइपरसोनिक मिसाइल प्रणाली बनने में अभी से 7-10 साल लगेंगे.’ उन्होंने आगे कहा है कि अभी इसकी रफ़्तार ध्वनि 2.8 गुना है. उन्होंने बताया है कि ब्रह्मोस इंजन में सुधार के साथ कुछ ही समय में मैक 3.5 और तीन साल में मैक 5 की गति हासिल कर लेगी.

हाइपरसेनिक की गति को बढ़ाने के लिए मौजूदा इंजन को बदलना होगा. इसके आगे उन्होंने बताया कि इस तरह की मिसाइल विकसित करन के पीछे लक्ष्य ये है कि ये अगली पीढ़ी के लिए हथियार आसानी से ढो सके. उनका कहना है कि भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) और भारतीय विज्ञान संस्थान एवं रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) जैसी संस्थाएं उस प्रौद्योगिकी पर काम कर रहे हैं जो आगे जाकर लक्ष्य प्राप्ति में मददगार साबित होगी.

इस प्रोजेक्ट में 55 फीसदी हिस्सेदारी भारत की है बाकी रूस की है. इसी के साथ उन्होंने कहा है कि यह अभी विश्व की सबसे तेज क्रूज मिसाइल है. अमेरिका सहित दुनिया के बड़े-बड़े देशों पर ऐसी मिसाइल नहीं है.

मुख्य अधिकारी सुधीर मिश्रा के अनुसार इंजन, लक्ष्य खोजने की प्रणालिया और प्रणोदन रूस के द्वारा विकसित कर ली गयी है. वहीँ भारत ने दिशानिर्देशन, फायर कंट्रोल और सॉफ्टवेयर, एयरफ्रेम को नियंत्रित करने वाली प्रणालियाँ विकसित की हैं. उन्होंने बताया है कि इसमें माइक्रोवेव ऊर्जा वाले शस्त्र लगे होंगे.

ऐसे करेगी हमला-

विश्व की सबसे तेज मिसाइल ब्रह्मोस 3457 किलोमीटर प्रति घंटे से हमला बोल सकती है. यह भारत की अब तक की सबसे एडवांस्ड मिसाइल है. इसी के साथ यह 300 किलोमीटर दूर लक्ष्य को भेद पाने में भी सक्षम है. इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह मिसाइल 300 किलोमीटर दूर चलते-फिरते टारगेट को भी आसानी से अपना निशाना बना सकती है, इतना ही नहीं अगर टारगेट अपना रास्ता बदल लेता है तो यह भी मेनुवरेबल तकनीक के जरिए अपना रास्ता बदल उसके पीछे चल सकती है.

इसी वजह से वैज्ञानिकों ने इसे बटन दबाओ और भूल जाओ नाम दिया है. इसकी खासियत जानने के बाद दुनियाभर के होश उड़े हुए हैंदेखें वीडियो:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here