बड़ी खबर – 2019 चुनाव से पहले पीएम मोदी को लेकर वर्ल्ड बैंक से आयी चौंकाने वाली रिपोर्ट, दिग्गज देश रह गए हैरान

0
676

पीएम मोदी के नेतृत्व में आज भारत विकास की नई ऊंचाईयों पर पहुंच रहा है. चीन को पछाड़ते हुए दुनिया की सबसे तेज़ गति से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था भारत बन गया है. कांग्रेस के वक़्त जो विदेशी मुद्रा भंडार 279 अरब डॉलर था वो आज महज़ 4 साल में रिकॉर्ड स्तर 423 अरब डॉलर पर पहुंच गया है.

2019 चुनाव से पहले वर्ल्ड बैंक ने दी बेहद चौंकाने वाली रिपोर्ट

अर्थव्यवस्था की बात हो या फिर उद्योग धंधों की, हर क्षेत्र में भारत मजबूती के साथ विकास कर रहा है. तो वहीँ अब सॉफ्टवेयर की दुनिया में भारत का अपना अलग मुकाम तेज़ी से बना रहा है. ऐसे में एक बार फिर वर्ल्ड बैंक ने पीएम मोदी और भारत को लेकर बड़ी ज़बरदस्त रिपोर्ट दी है जिसे देख आप भी चौंक जायेंगे.

अमेरिका के जैसी भारत के पास होगी सिलिकॉन वैली

अभी मिल रही ताज़ा खबर के मुताबिक अमेरिका की सिलिकन वैली को सॉफ्टवेयर कंपनियों का हब कहा जाता है और वहां बड़ी संख्या में भारतीय पेशेवर भी काम करते हैं. लेकिन अब वर्ल्ड बैंक ने इन्वेंशन पर अपनी रिपोर्ट में कहा है कि मोदी नेतृत्व में भारत इसी तेज़ी से बढ़ता रहा तो केवल अगले 5 साल में भारत अपनी खुद की सिलिकन वैली बना लेगा.
वर्ल्ड बैंक के इंडिया हेड जुनैद अहमद कल का कहना है कि टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में भारत जिस रफ्तार से प्रगति कर रहा है, अगर यही रफ्तार बनी रही तो, अगले पांच वर्षों में सिलिकन वैली जैसी सफलता हासिल कर सकता है.

जाहिर है कि मोदी सरकार ने टेक्नोलॉजी के विकास पर बहुत ध्यान दिया है और अब इसका परिणाम भी सामने आ रहा है. वर्ल्ड बैंक के अनुसार भारत में इन्वेंशन का माहौल तैयार हो चुका है और इसे विस्तार देने की जरूरत है. इससे पहले अर्थव्यवस्था को लेकर भी वर्ल्ड बैंक , IMF , वर्ल्ड इकनोमिक फोरम , सब बहुत अच्छी रिपोर्ट देते रहे हैं. खुद पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा है कि 2019 में भारत की जीडीपी 8 फीसदी तक पहुंच जाएगी.

अहमद ने कहा, ‘मुझे लगता है कि भारत 5 साल में सिलिकन वैली जैसा बन सकता है। दुनिया बदल रही है। हम छलांग लगा सकते हैं।’ विश्व बैंक के मुख्य अर्थशास्त्री (समानता वाली वृद्धि, वित्त और संस्थान) विलियम एफ मालोनी ने कहा कि विकासशील देशों में नैशनल इनवेशन सिस्टम को विस्तार देने की जरूरत है.

आपको बता दें अमेरिका के सैन फ्रांसिस्‍को की सुंदर घाटियों के बीच बसे सिलिकन वैली को दुनिया में टेक्नोलॉजी का तीर्थ माना जाता है। सैन फ्रांसिस्को बे एरिया के दक्षिणी हिस्से में स्थित सिलिकन वैली में 30 हजार से ज्यादा छोटी-बड़ी कंपनियां काम कर रही हैं। सिलिकन वैली की शीर्ष कंपनियों में गूगल, ऐप्पल, एडॉब, फेसबुक, इंटेल, ओरेकल जैसे नाम शामिल हैं.

हर तरफ से आ रही अच्छी खबर

बता दें पीएम मोदी के नेतृत्व में अर्थव्यवस्था के लिए हर तरफ से अच्छी खबर आ रही है। भारतीय अर्थव्यस्था में रिकवरी की रफ्तार जोर पकड़ती जा रही है. आठ बुनियादी ढांचा क्षेत्रों में फरवरी महीने में 5.3 प्रतिशत की दर से बढ़ोतरी हुई। रिफाइनरी उत्पाद, उर्वरक और सीमेंट क्षेत्र के बेहतर प्रदर्शन के कारण यह संभव हुआ.

पेट्रोलियम रिफाइनरी उत्पादों में फरवरी महीने में 7.8 प्रतिशत की तेज वृद्धि दर रही जबकि पिछले वर्ष फरवरी में यह शून्य से 2.8 प्रतिशत नीचे थी.उर्वरक में 5.3 प्रतिशत और सीमेंट उत्पादन में 22.9 प्रतिशत की बढ़ोतरी रही। बिजली उत्पादन 4 प्रतिशत बढ़ा जबकि पिछले वर्ष फरवरी में यह 1.2 प्रतिशत थी। कोर सेक्टर में आई तेजी का औद्योगिक उत्पादन पर भी असर होता है, क्योंकि कुल उत्पादन में इन आठों क्षेत्रों की हिस्सेदारी करीब 41 फीसदी होती है.

मोदी सरकार में इतिहास रच रहा शेयर बाजार

पीएम मोदी के नेतृत्व में भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूती के साथ बढ़ रही है. 23 जनवरी को शेयर बाजार ने इतिहास रच दिया था. 50 शेयरों के एनएसई सूचकांक निफ्टी ने पहली बार 11000 का आंकड़ा पार किया तो 30 शेयरों का बीएसई सूचकांक सेंसेक्स भी 36,000 का ऐतिहासिक स्तर पार कर गया.

वहीँ दूसरी और अमेरिका जैसी शक्तिशाली देशों में आर्थिक मंडी आ रही है लेकिन भारत इन सबस बुलट कर प्रगति कर रहा है. जाहिर है यह भारतीय अर्थव्यवस्था में निवेशकों के भरोसे को दिखाता है. आपको याद दिला दें पिछली कांग्रेस सरकार के दौरान अप्रैल 2014 में सेंसेक्स करीब 22 हजार के आस-पास रहता था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here