ब्रेकिंग – चिदंबरम की गिरफ्तारी से बौखलाए माँ-बेटे, जेल से बचने के लिए चली ऐसी खौफनाक चाल, सन्न रह गया सारा देश

0
514

जनता को मूर्ख बना कर, उन्हें जाति व् धर्म के नामपर आपस में लड़वाकर सत्ता हासिल करो और फिर देश में जमकर लूट करो. जनता को गरीब व् अशिक्षित ही रखो ताकि वो हर बार इसी तरह बिना सोचे-समझे वोट देते रहें. यदि गलती से कोई घपला खुल गया तो नौकरशाही व् न्यायपालिका में बैठे अपने पालतुओं की मदद से मामला रफा-दफा करवा दो और यदि फिर भी कोई अपना मुँह खोल दे तो उसकी ह्त्या करवा दो, गांधी परिवार की राजनीति की ये खासियत रही है.

इंद्राणी को दवाई की ओवरडोज देकर मारने की साजिश

कुछ वक़्त पहले खबर आयी थी कि कोंग्रेसी नेता शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर कांग्रेस को लेकर कुछ खुलासे करने वाली थी, मगर उससे ठीक पहले होटल में उनकी ह्त्या कर दी गयी. जिसकी जांच आजतक चल रही है. अब ऐसा ही एक नया मामला सामने आ रहा है.

वरिष्ठ कोंग्रेसी नेता व् पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम व् उनके बेटे के खिलाफ गवाही देने वाली इंद्राणी मुखर्जी को दवाइयों का ओवरडोज़ देकर जान से मारने की साजिश की गयी. इंद्राणी को शुक्रवार रात तबीयत बिगड़ने के बाद मुंबई के जेजे अस्पताल में भर्ती कराया गया था. वहां पर उनकी हालत नाजुक बनी हुई है.

बिना लिखी हुई दवाई दे रहे थे जेल कर्मचारी

जे जे अस्पताल ने फॉरेंसिक प्रयोगशाला की रिपोर्ट के मुताबिक़ इंद्राणी मुखर्जी को अवसाद रोधी दवा की अधिक मात्रा में दी जा रही थी, जो उन्हें लिखी नहीं गयी थी. अब समझिये कि क्या है सारा गणित और आखिर क्यों इंद्राणी की जान खतरे में पड़ गयी है.

शीना बोरा हत्याकांड में शामिल इंद्राणी मुखर्जी जेल में बंद हैं. जेल में ही उन्होंने खुलासा किया कि किस तरह से पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम ने उनके आईएनएक्स मीडिया को फॉरेन इन्वेस्टमेंट प्रोमोशन बोर्ड (FIPB) से इजाज़त दिलाने के ऐवज में अपने लिए रिश्वत की मांग की थी. रिश्वत की रकम उन्होंने अपने बेटे कार्ति को देने को कहा था.

इंद्राणी की गवाही के आधार पर ही पिछले दिनों चिदंबरम का बेटा कार्ति चिदंबरम गिरफ्तार किया गया था. ये घटना ठीक उसी दिन हुई है, जब चिदंबरम को पूछताछ के लिए सीबीआई ने समन भेजा है. इंद्राणी मुखर्जी मुंबई के भायखला जेल में करीब तीन साल से बंद हैं. ये दूसरी बार है जब उनको कथित तौर पर ड्रग ओवरडोज के बाद अस्पताल ले जाना पड़ा है. बीजेपी सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी ने फरवरी में ही ट्वीट करके कहा था कि जेल में इंद्राणी को ज़हर देकर मारने की कोशिश हो सकती है.

इंद्राणी के कारण गांधी परिवार पर मंडरा रहा ख़तरा

इंद्राणी ने खुलासा किया था कि पी चिदंबरम के कहने पर उन्होंने कार्ति चिदंबरम को रिश्वत के तौर पर 5 करोड़ रुपये दिए. इंद्राणी ने जो बयान दिया है उसके पूरे सबूत भी मौजूद हैं, लिहाजा ये चिदंबरम के लिए गले की हड्डी बन गया है. इस केस में कार्ति चिदंबरम को हाल ही में मुश्किल से जमानत मिली है. पहली नजर में देखें तो इंद्राणी के जीते रहने से दो लोगों को ही खतरा है और वो हैं चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति.

मगर थोड़ा गौर करेंगे तो पता चलता है कि यदि चिदंबरम फंसा तो कई वरिष्ठ कोंग्रेसी नेताओं समेत गाँधी परिवार भी सलाखों के पीछे होगा. जिस तरह इंद्राणी ने चिदंबरम को लेकर खुलासे किये हैं, कुछ उसी तरह से चिदंबरम भी खुलासे करेगा और फिर कोंग्रेसियों का कच्चा-चिट्ठा सामने आ जाएगा. यही कारण है कि चिदंबरम को बचाने के लिए कोंग्रेसी किसी भी हद तक जाने को तैयार हैं.

जेजे अस्पताल के डीन एसडी ननंदकर ने कहा है कि इंद्राणी को लगभग बदहवासी की हालत में लाया गया था. उनके सभी जरूरी टेस्ट किए गए हैं. ताजा जानकारी के मुताबिक उनकी हालत स्थिर है. इसी साल 21 फरवरी को ट्वीट करके सुब्रह्मण्यम स्वामी ने आरोप लगाया था कि जेल में इंद्राणी की हत्या हो सकती है, इसलिए उन्हें कड़ी सुरक्षा दी जाए.

क्या है आईएनएक्स मीडिया मामला?

चिदंबरम के बेटे कार्ति के घर पर प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी ने 2015 में छापे मारे थे. वहां पर उन्हें इंद्राणी और उनके पति पीटर से लेनदेन के सुराग मिले. इसके बाद जांच शुरू हुई तो रिश्वतखोरी का पता चला. सीबीआई और ईडी की पूछताछ में इंद्राणी ने 5 करोड़ की रिश्वत की बात कबूली है.

मजिस्ट्रेट के आगे अपने बयान में इंद्राणी ने यह भी बताया कि चिदंबरम ने उनसे कहा था कि वो उनके बेटे कार्ति के कारोबार में मदद करें. इंद्राणी के पास उसकी ‘मदद’ करने के सिवा कोई दूसरा रास्ता भी नहीं था क्योंकि 300 करोड़ रुपये के हवाला के मामले में वो पहले से ही इनकम टैक्स की जांच के दायरे में थी.

चिदंबरम यदि फंसा तो गांधी परिवार के काले सच भी सामने आ ही जाएंगे, लिहाजा इंद्राणी की जान को गंभीर ख़तरा है. इस बार तो इंद्राणी बच गयी लेकिन यदि पूरी सुरक्षा मुहैया नहीं कराई गयी और इंद्राणी को कुछ हो गया तो चिदंबरम साफ़ बच कर निकल जाएगा और पीएम मोदी का भ्रष्टाचार रोकने का मिशन भी फेल हो जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here