राहुल गांधी के लिए इससे शर्मनाक कुछ और नहीं हो सकता !

0
235

कुछ साल पहले कैडबरी चॉकलेट का एक विज्ञापन आता था, जिसकी टैग लाइन ‘पप्पू पास हो गया’, हुआ करती थी. उसमें अमिताभ बच्चन भी दिखते थे. उस वक्त अंदाजा नहीं था कि विज्ञापन की लाइन में इस्तेमाल होने वाला शब्द ‘पप्पू’ राजनीति का बड़ा नाम हो जायेगा.

आज हर कोई जानता है कि जब ‘पप्पू’ का जिक्र होता है तो लोग राहुल गांधी तक पहुंच जाते हैं. ऐसा क्यों हैं, इसके पीछे भी एक साधारण सा तर्क है कि राजनीति में एक बड़े परिवार से होने के बाद भी राहुल गांधी की राजनीतिक परिपक्वता अभी सामान्य स्तर से भी नीचे है. इसी को देखते हुए और उनके बेमतलब बयानों को देखते हुए लोगों ने उनका ‘पप्पू’ नाम रख दिया.

कांग्रेस के ही नेता ने कह दिया ‘पप्पू’

वैसे तो राहुल गांधी को तमाम दलों के नेता भी इस नाम से पुकारते हैं और वो इसके लिए जाने भी जाते हैं, लेकिन तब क्या हो जब कांग्रेस के ही नेता उन्हें पप्पू कहकर बुलाने लगे. चौंकिए मत, ऐसा हुआ है और ये मामला राजस्थान का है. जनसत्ता की खबर के मुताबिक राजस्थान में कांग्रेस नेताओं द्वारा WhatsApp पर एक ग्रुप बनाया गया था जिसमें राहुल गांधी को एक कांग्रेसी नेता ने पप्पू कह दिया.

इस बात से नाराज होकर विश्नोई ने पप्पू कहा

बता दें ये नेता कोई ऐसे-वैसे नहीं, बल्कि राजस्थान में यूथ कांग्रेस के महासचिव ब्रह्मप्रकाश विश्नोई हैं. दरअसल राजस्थान यूथ कांग्रेस का अध्यक्ष केशव चंद्र यादव को बनाया गया जिसके बाद ब्रह्मप्रकाश विश्नोई नाराज चल रहे थे. इस बात को लेकर उन्होंने अपने एक WhatsApp ग्रुप में नाराजगी जाहिर की. अपनी बात रखते हुए ब्रह्मप्रकाश ने राहुल गांधी को पप्पू तक कह दिया.

मैसेज वायरल होने के बाद हुआ ये..

बता दें कि विश्नोई ने कहा कि “आज पता चला कि आखिर राहुल गांधी को लोग पप्पू क्यों कहते हैं !” जैसे ही ब्रह्मप्रकाश ने यह मैसेज किया, उनका यह मैसेज वायरल हो गया. जिसके बाद कांग्रेस के बड़े नेता बौखला गये और आनन-फानन में ब्रह्मप्रकाश विश्नोई को महासचिव के पद से हटा दिया गया और उनकी सदस्यता भी रद्द कर दी गयी. पार्टी की तरफ से कहा जा रहा है कि ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि विश्नोई के मैसेज से राहुल गांधी का अपमान हुआ है.

फ़िलहाल कांग्रेस यह भूल जाती है कि एक कमजोर नेतृत्व के कारण आज उनकी हालत क्षेत्रीय पार्टियों जैसी हो गयी है, और उनके ही नेता राहुल को पप्पू कहकर बुलाने लगे हैं, लेकिन उसके बाद भी राहुल गांधी प्रधानमंत्री बनने का सपना देख रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here