हिंदुत्व के टुकड़े करने वाले और भगवा आतंकवाद का नारा लगाने वालों को ये VIDEO जरूर देखना चाहिए…

0
55

मक्का मस्जिद ब्लास्ट मामले में एनआईए की विशेष अदालत द्वारा असीमानंद समेत चार आरोपियों को बरी किये जाने के बाद बीजेपी ने कांग्रेस को आड़े हाथों लिया है।

बीजेपी प्रवक्ता संबित पत्र ने कहा कि कांग्रेस का भगवा आतंकवाद का झूठ अब उजागर हो गया है। संबित पात्रा ने कहा ”कांग्रेस को ‘हिंदू आतंकवाद’ कॉमेंट को लेकर देश से माफी मांगनी चाहिए।

Dr. Sambit Patra making a statement to press at BJP Central Office, New Delhi

#Live मक्का मस्जिद ब्लास्ट फैसले पर भाजपा की प्रेस वार्ता ,संबित पात्रा का कांग्रेस पर वार

Newsroom Post ଙ୍କ ଦ୍ୱାରା ଏହି ତାରିଖରେ ପୋଷ୍ଟ୍‌ ହୋଇଛି 16 ଏପ୍ରିଲ୍ 2018

क्या भगवा आंतकवाद के बयान पर राहुल गांधी अब आधी रात को कैंडल मार्च निकालेंगे?” पात्रा में आरोप लगाया कि कांग्रेस आतंकवादियों की हमदर्द है और हिन्दुओं को बदनाम कर रही है।

सुब्रमण्यम स्वामी, बीजेपी नेता- ”अब हम कह सकते हैं कि ये हिंदू समुदाय के खिलाफ एक साजिश थी। मैं पीएम मोदी से अपील करता हूं कि वो पूर्व गृह मंत्री पी चिंदबरम और राहुल गांधी के खिलाफ केस दर्ज कराएं।”

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा- ”जून 2014 के बाद से ज्यादातर गवाह मुकर गए. एनआईए ने इस मामले को ठीक से आगे नहीं बढ़ाया. ऐसा लग रहा है कि एनआईए को राजनीतिक दल चला रहे हैं. उन्होंने आरोपी को दिए गए जमानत के खिलाफ अपील नहीं की. आतंकवाद के खिलाफ हमारी लड़ाई कमजोर हो गई है”

गौरतलब है हैदराबाद में विशेष एनआईए कोर्ट ने सोमवार को मक्का मस्जिद विस्फोट मामले में असीमानंद सहित पांच आरोपियों को बरी कर दिया है। अदालत ने सबूत की कमी का हवाला देते हुए कहा कि जांच एजेंसियां किसी के अपराध को साबित करने में विफल रही हैं।

इस मामले में असीमानंद सहित देवेन्द्र गुप्ता, लोकेश शर्मा उर्फ अजय तिवारी, लक्ष्मण दास महाराज, मोहनलाल दरत्वर और राजेंद्र चौधरी को मामले में आरोपी घोषित किया गया था।

जबकि दो आरोपी रामचंद्र कालसांगरा और संदीप डांगे अभी भी फरार हैं। एक प्रमुख अभियुक्त और आरएसएस के कार्यवाहक, सुनील जोशी को जांच के दौरान गोली मार दी गई थी।

हैदराबाद में ऐतिहासिक मक्का मस्जिद में हुए बम विस्फोट में आठ लोग मारे गए और 58 अन्य घायल हो गए थे। एनआईए ने अप्रैल 2011 में जांच शुरू की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here