भारत को महाशक्ति बनाने के लिए रूस ने मोदी को दिया अपना सबसे खतरनाक हथियार, चीन भी सन्न

0
219

पिछले साल पीएम मोदी रूस के दौरे पर गए थे, जहाँ उन्होंने भारत को महाशक्ति बनाने की एक ऐसी डील की थी, जिसने चीन तक को परेशान कर दिया था. दरअसल चीन और पाकिस्तान, इन दोनों ही देशों की मंशा हमेशा भारत की जमीन पर कब्जा करने की रही है.

पाकिस्तान तो आये दिन भारत पर परमाणु हमला करने की धमकी भी देता रहता है. वहीँ चीन ने भी डोकलाम मुद्दे पर भारत को युद्ध की धमकी दी थी. मगर अब अपने सबसे ख़ास दोस्त रूस के साथ मिलकर, इन दोनों देशों को एक साथ धूल चटाने का इंतजाम भारत ने कर लिया है.

एस-400 डिफेंस सिस्टम डील आखिरी चरण में

भारत और रूस के बीच एस-400 ट्राइम्फ हवाई रक्षा प्रणाली की डील को लेकर गहन बातचीत चल रही है और अब जल्द ही भारतीय सेना को ये मिल सकता है. रूस की सरकारी रक्षा एवं औद्योगिक समूह रोस्टेक के अंतरराष्ट्रीय सहयोग एवं क्षेत्रीय नीति निदेशक विक्टर एन क्लादोव के अनुसार इस समय इस मुद्दे पर बातचीत चल रही है कि भारत एस-400 ट्राइम्फ हवाई रक्षा प्रणाली कितनी संख्या में खरीदेगा.

इस डील को लेकर अनुबंध पर कब तक साइन होंगे, इस सवाल के जवाब में क्लादोव ने बताया कि, ‘जितनी जल्दी वह अनुबंध के लिये दस्तावेज तैयार कर लेंगे उतनी जल्द ही इस पर साइन कर लिये जायेंगे.’ उन्होंने आगे बताया कि इसमें कितना वक़्त लग जाएगा, इसका सटीक समय तो वो नहीं बता सकते लेकिन आने वाले दिनों में किसी भी समय यह हो सकता है, क्योंकि काम काफी तेजी से चल रहा है.

उन्होंने कहा कि कई तरह के तकनीकी मुद्दों पर बातचीत चल रही है. दोनों देशों की टीमें बातचीत में काफी मेहनत कर रही हैं. यह अति आधुनिक प्रणाली है, इसमें कई तकनीकी मुद्दों को देखा जाना है. इसमें मूल्यांकन, प्रशिक्षण, प्रौद्योगिकी हस्तांतरण, कमांड एवं कंट्रोल सेंटर स्थापित करने सहित कई मुद्दे शामिल हैं.

एक साथ 36 मिसाइलों को मार गिराने में सक्षम

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि एस-400 डिफेंस सिस्टम की खासियत ये है कि युद्ध के दौरान ये एक साथ 36 मिसाइलों को मार गिराने में सक्षम है. खासकर पाकिस्तान और चीन से हवाई हमला किये जाने की स्थिति में भारत इस सिस्टम की मदद से हवा में ही उनकी मिसाइलों, लड़ाकू विमानों या ड्रोन को तबाह कर देगा.

अमेरिका के एफ-35 को भी कर सकता है तबाह

इस डिफेंस सिस्टम से दुश्मनों के विमानों, क्रूज और बैलिस्टिक मिसाइलों के साथ ज़मीनी ठिकानों को भी तबाह किया जा सकता है. इन मिसाइलों की मारक क्षमता 400 किलोमीटर तक की हैं. सबसे ख़ास बात तो ये है कि इस सिस्टम के द्वारा अमेरिका के सबसे एडवांस्ड फाइटर जेट एफ-35 को भी तबाह किया जा सकता है.

इसी डिफेंस सिस्टम के दम पर चीन, भारत को युद्ध की धमकी दे रहा था, क्योंकि जब भारत की कांग्रेस सरकार घोटालों में व्यस्त थी, उस वक़्त ही चीन ने रूस से इसे खरीद लिया था. पीएम मोदी ने सत्ता में आने के बाद ये डील की और अब जल्द ही भारत को ये सिस्टम मिल जाएगा.

भारत को पाकिस्तान के साथ-साथ चीन की ओर से भी मिसाइल हमलों और हवाई हमलों का ख़तरा रहता है. इसलिए एस-400 वायु सुरक्षा प्रणाली भारत के बहुत काम आ सकती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here