भारत की कई गुना बढ़ती ताक़त देख पाकिस्तान के छूटे पसीने, सेना चीफ ने गिड़गिड़ाते हुए भारत के आगे झुकाया सर

0
183

पाकिस्तान एक आतंकी समर्थक देश है जिस वजह से आज पूरी दुनिया में उसकी थू थू हो रही है. पाक्सितान को अमेरिका से मिलने वाली करोड़ों डॉलर की फंडिंग पर पहले ही रोक लग चुकी है. साथ ही FATF संगठन भी आतंकी गतिविधियों के चलते पाकिस्तान को बैन कर चुका है इस वजह से ना तो पाकिस्तान को कोई क़र्ज़ दे रहा है और ना ही निवेश करने कोई कम्पनिया आ रही है. ऊपर से हज़ारों करोड़ों डॉलर का क़र्ज़.

इसके साथ पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था बुरी तरह चरमराई हुई है चीन के आगे हाथ फ़ैलाने पर अब चीन धीरे धीरे पाकिस्तान के संसाधनों को खोखला कर रहा है. ऐसे में अब परमाणु हमले की धमकी देने वाले पाकिस्तान को अपनी औकात का पता चल चुका है तभी तो मोदी राज में अब वो घुटने पर बैठकर भारत के आगे गिड़गिड़ा रहा है.

अभी मिल रही ताज़ा खबर के मुताबिक विभिन्न अंतरराष्ट्रीय मंचों पर आतंकवाद को लेकर खरीखोटी सुनने के बाद हर समय युद्ध की धमकी देने वाली पाकिस्तानी सेना को अपनी औकात और अपने देश की हैसियत का अंदाज़ा हो गया है तभी तो पाक सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने भारत के साथ शांति वार्ता करने की दरख्वास्त करी है.

रविवार को बाजवा ने कहा कि भारत-पाक के बीच कश्मीर समेत सभी विवादों का समाधान व्यापक और शांतिपूर्ण सार्थक वार्ता से ही निकाला जा सकता है. बता दें जब से भारतीय सेना ने पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक करी है तबसे पाकिस्तान हमले करने की धमकी देता रहा है.

सेना की मीडिया इकाई इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) की ओर से जारी बयान के अनुसार, जनरल बाजवा ने कहा, हमारा स्पष्ट मत है कि भारत और पाक के बीच विवादों का शांतिपूर्ण समाधान निकाला जा सकता है. लेकिन जैसे कुत्ते की पूंछ कभी सीधी नहीं होती ठीक उसी तरह चाहे खुद के खाने के लाले पड़े हुए फिर भी कश्मीर मांगना नहीं भूले सेना प्रमुख बाजवा.

सेना प्रमुख ने कहा पाक ऐसी वार्ता के लिए प्रतिबद्ध है. लेकिन इसका आधार उसकी संप्रभु समानता, गरिमा और सम्मान है. गरिमा सम्मान की वो पाकिस्तान बात कर रहा है जिसके पीएम को अभी अमेरिका एयरपोर्ट पर नंगा कर दिया गया था. जिसके पीएम को चीन के न्यूज़ एंकर ने एक छोटे से स्टूल पर बिठाया था.

दरअसल मौजूद हालात में पाकिस्तान को भारतीय ताक़त का अंदाज़ा हो गया है. भारत आज सबसे बड़ी अर्थव्यस्था बन रहा है. दुनिया के शक्तिशाली देश भारत में निवेश कर रह हैं और पाकिस्तान को ठेंगा भी नहीं मिल रहा है.

वैसे ये पाकिस्तान की चालाकी भी हो सकती है क्यूंकि उसे कई विदेश संगठनों से आतंकवाद की वजह से बैन कर दिया गया है. इसी वजह से इन संगठनों की आँखों में धूल झोंकने के लिए पाकिस्तान अपने आपको अहिंसा प्रिय दिखता रहता है और बीच बीच में हाफिज सईद को गिरफ्तार करता है और फिर छोड़ देता है. ऊपर से उसे राजनितिक पार्टी भी बनाने देता है.

लेकिन पाकिस्तान चाहे जितना शांति दिखने का ढोंग कर ले उसकी एक नहीं चलेगी. भारत उसकी हार चाल को अच्छे से जानता है , पीठ पीछे धोखा देकर छुरा घोपने की आदत है पाकिस्तान की. एक तरफ सीमा पर से आतंकवादी भारत में गोलीबारी की आड़ में घुसवाता है और दूसरी तरफ शांति की बात करता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here