इधर मोदी सरकार ने 2019 चुनाव की तैयारी शुरू की, वहां वित्तीय मंत्रालय ने दी बेहद चौंकाने वाली रिपोर्ट, दंग रह गया देश

0
275

नई दिल्ली : भारत आज दुनिया की सबसे तेज़ गति से बढ़ती अर्थव्यवस्था बन गया है जिसमे आज भारत ने चीन को भी पछाड़ दिया है. दुनिया भर की आर्थिक एजेन्सिया वर्ल्ड बैंक, संयुक्त राष्ट्र , WEF , IMF मॉर्गन स्टैनले सब भारत की जीडीपी को 7.5 % से ऊपर बता रहे हैं.

तो वहीँ इस बीच अब खुद मोदी सरकार का आत्म विश्वास कई गुना बढ़ गया है. जिसके बाद वित्तीय मंत्रालय ने भारत को लेकर बड़ा चौंकाने वाला खुलासा किया.

वर्ल्ड बैंक के बाद अब खुद वित्तीय मंत्रालय ने दी बेहद चौंकाने वाली रिपोर्ट

अभी मिल रही बहुत बड़ी खबर के मुताबिक वित्त मंत्रालय ने भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर बड़ी बात कही है. भारत इस समय अपनी अर्षव्यवस्था को दोगुना करने के लक्ष्य की ओर अग्रसर है और वर्ष 2025 तक भारतीय अर्थव्यवस्था के पांच ट्रिलियन डॉलर होने की संभावना है.

आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने सीआईआई ग्लोबल इंडस्ट्री एसोसिएशन्स समिट में कहा, “देश सात से आठ फीसद के ग्रोथ रेट को हासिल करने के लिए प्रतिबद्ध है। साथ ही स्टार्टअप, एमएसएमई और बुनियादी निवेश पर फोकस करते हुए वह विकास दर में बढ़ोतरी प्राप्त कर सकता है।”

उन्होंने बताया, “मुझे लगता है कि यह उम्मीद करना तर्कसंगत है कि अगर अर्थव्यवस्था वस्तु एवं सेवा के उत्पादन पर फोकस करेगी और अगले सात से आठ वर्षों के लिए मांग सृजित करेगी तो हम वर्ष 2025 तक पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बन सकते हैं। यह समझदारी से तय किया गया लक्ष्य है।

फिलहाल भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का आकार 2,500 अरब डॉलर (करीब 162,50,000 करोड़ रुपये) है और यह दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है. मुद्रास्फीति के बारे में गर्ग ने कहा कि यह काफी हद तक रिजर्व बैंक के लक्ष्य चार प्रतिशत ( दो प्रतिशत ऊपर या नीचे) के दायरे में है.

चीन को पछाड़कर ग्लोबल लीडर बना भारत

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की एक नई स्टडी में खुलासा हुआ है कि चीन को पछाड़कर भारत वैश्विक आर्थिक विकास की नई धुरी के तौर पर उभर चुका है. रिपोर्ट में ये उम्मीद भी की गयी है कि अगले दस सालों से ज्यादा वक़्त तक भारत अपनी इस स्थिति को बरकरार भी रखेगा.

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के सेंटर फॉर इंटरनैशल डिवेलपमेंट (CID) ने 2025 तक सबसे तेजी से विकास करने वाली अर्थव्यवस्थाओं की लिस्ट में भारत को सबसे ऊपर रखा है. CID के मुताबिक़ इस दौरान भारत की अर्थव्यवस्था सबसे तेजी से औसतन 7.7 फ़ीसदी की दर से विकास करेगी. रिपोर्ट में ऐसा होने के पीछे कई कारण बताए गए हैं.

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भी जताया था भरोसा

इससे पहले आपको याद दिला दें खुद पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा था कि भारत कि इतनी तेज़ गति से बढ़ती अर्थव्यवस्था के अनुसार ये कहँ अगलात नहीं होगा की मोदी सरकार 2019 के बाद से भारत की जीडीपी 8% तक पंहुचा देगी.

दुनिया की तीसरी आर्थिक महाशक्ति होगा भारत

अर्थव्यवस्था को लेकर दुनिया की सबसे बड़ी नामी वैश्विक वित्तीय सेवा फर्म मॉर्गन स्टेनली ने कहा था कि इसी रफ़्तार से भारत प्रगति करता रहा तो आने वाले 10 वर्षों में भारत की अर्थव्यवस्था 6 खरब डॉलर (करीब 393 खरब रुपये) हो जायेगी.

जो कि दुनिया की तीसरे सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होगी. पीएम मोदी के कैशलेस इकॉनमी अभियान के कारण आने वाले दशक में जीडीपी की वृद्धि दर को 0.50-0.75 प्रतिशत (50-75 आधार अंक) तक बढ़ जायेगी. ऐसे में दुनिया की तीसरी आर्थिक महाशक्ति बनकर उभरेगा भारत.

ये विडियो देखें :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here