कांग्रेस, JDS और निर्दलीय विधायकों ने मिलाया मोदी से हाथ, कांग्रेस को दिया ऐसा जोरदार झटका, शपथ लेंगे येदियुरप्पा

0
324

नई दिल्ली : कर्नाटक विधानसभा चुनाव में किसी भी राजनीतिक पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिलने से नई सरकार बनाने को लेकर पेच फंस गया है. कांग्रेस किसी भी कीमत पर बीजेपी को रोकने के लिए अड़ी हुई है, मगर अमित शाह ने अब एक ऐसा दांव खेला है, जिसने कांग्रेस में हड़कंप मचाया हुआ है.

कांग्रेस, जेडीएस, निर्दलीय विधायकों ने दिया मोदी का साथ

कर्नाटक चुनाव में 104 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनी बीजेपी ने येदियुरप्पा के नेतृत्व में सरकार बनाने का दावा पेश किया है. कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला से मुलाकात करने के बाद उन्होंने कहा कि वो कल यानी बृहस्पतिवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. बताया जा रहा है कि अमित शाह की योजना है कि कांग्रेस और जेडीएस मिलकर भी बहुमत के लिए जरूरी 112 सदस्यों का समर्थन पत्र राज्यपाल को न दे सकें.

बुधवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक में पार्टी के 4 विधायक नहीं पहुंचे. इसके अलावा जेडीएस के दो विधायक भी अपनी पार्टी की बैठक से गायब रहे. जानकारी के मुताबिक़ ये विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं. इसके साथ ही एक निर्दलीय विधायक ने भी बीजेपी को समर्थन दिया है.

अपने दम पर सरकार बनाएगी बीजेपी

वहीं, कुमारस्वामी ने दो विधानसभा सीटों से विजय हासिल की है. लिहाजा बीजेपी राज्यपाल के जरिए दबाव बनाएगी कि कुमारस्वामी, विश्वास मत से पहले दो में से एक सीट से इस्तीफा दें. बीजेपी चाहती है कि कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला सबसे बड़ी पार्टी यानी बीजेपी को सरकार बनाने का न्योता और विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए वक्त दें.

विधानसभा में विश्वास मत के दौरान कांग्रेस और जेडीएस के कम से कम 15 विधायकों को गैर हाजिर रखने की प्लानिंग है. इससे सदन में संख्या बल 222 से घटकर 207 हो जाएगा. इसके बाद बीजेपी अपने 104 विधायकों के दम पर आसानी से बहुमत साबित कर लेगी. बहुमत का जादुई आंकड़ा 112 से घटकर 104 पर आ जाएगा.

अमित शाह की योजना से कांग्रेस पस्त

इतना ही नहीं, बीजेपी की कोशिश लिंगायत सम्मान को भी मुद्दा बनाने की है. सूत्रों की मानें तो बीजेपी कांग्रेस के लिंगायत विधायकों के संपर्क में हैं. इसके लिए पार्टी लिंगायत मठों से संपर्क साध रही है, जिससे लिंगायत समुदाय के विधायक येदियुरप्पा के संपर्क में आ जाएं. इस बार कांग्रेस के 21 और जेडीएस के 10 विधायक लिंगायत समुदाय से हैं.

हालातों को देखा जाए तो अमित शाह की ये योजना सफल होती दिखाई दे रही है. कांग्रेस और जेडीएस के विधायक बगावत पर हैं और विश्वास मत के दौरान इनके नदारद रहने की उम्मीद है. ऐसे में बीजेपी के सरकार बनाने की योजना सिरे चढ़ जायेगी और राहुल गाँधी के हाथ से गोवा और मेघालय की तरह कर्नाटक भी निकल जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here