हिंदुस्तान में पहली बार मुफ्त में लांच हुआ देवनागरी टूल ! मोदी के मेक इन इंडिया के तहत मचा डाली धूम

0
190

भारत में अब मोबाइल की क्रांति आ चुकी हुई जहाँ पहले मोबाइल सिर्फ शहरों तक ही सीमित  था अब ये दूरदराज गाँव पहाड़ों तक भी पहुँच गया है. जो लोग अभी तक अपने पास स्मार्ट फ़ोन होने के बाद भी अभी तक सिर्फ भाषा की वजह से मोबाइल एप्लीकेशनस से दूर रहते थे अब उन लोगों को एक वरदान दिया हैं देवनागरी टूल ने (https://www.devnagri.com/). भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के मेक इन इंडिया, डिजिटल इंडिया और शाइनिंग इंडिया के मिशन को एक कदम और आगे बढाकर देश के नागरिकों को एक और बड़ा तोहफा दिया है.

हर वो इंसान जो अपने स्मार्ट फ़ोन में एक ही भाषा आने की वजह कई मुसीबतों का सामने करता है (जैसे बैंक की एप्लीकेशन जो ज्यदातर इंग्लिश में होती हैं उससे कई भारतियों के परेशानी होती है). लेकिन अब इन सब मुसीबतों को भूल जाइये क्यूंकि अब आपके पास है देवनागरी टूल जो पूरी तरह से भारतीय है. यह एक ऐसी तकनीक है जो अब तक 7 अलग-अलग भाषाओं में ऐप उपलब्ध कराती है और 1 लाख उपयोगकर्ताओं द्वारा स्वीकृत भी है.

इसी कड़ी को आगे बढाते हुए इस कंपनी ने भारतीयों के लिए पहली बार सबसे पहले एक मुफ्त अनुवाद टूल, “देवनागरी” को लांच हो चूका है जिसने लाखों करोड़ों भारतियों के चेहरे पर मुस्कान ला दी है. यह एक सत्य तथ्य ही है  है कि भारत के सबसे अधिक होनहार लोग देश के टियर-2 और टियर-3 शहरों से आते हैं लेकिन इनके साथ झूठ बोला जाता है और इन तक पहुँच भी इतनी आसान नहीं होती.

पिछले कई सालों से भाषा, लगभग हर उद्योग के लिए एक चिंता का विषय रहा है क्योंकि ग्राहकों तक पहुंचने के लिए ऑफ़लाइन और ऑनलाइन प्रथा दोनों में स्थानीयकरण की आवश्यकता है, फिर भी उद्योग जो कि स्थानीयकरण में माहिर है, इसके लिए आवश्यक सही तत्वों का उत्पादन करने में भी कई बार विफल रह जाता है. इसलिए, यह एक नई प्रणाली या मंच के साथ भारत के अनुवाद उद्योग को बन्द करना जरूरी हो गया जो कि अगले चरण के दर्शकों तक पहुंच के साथ स्थानीयकरण और व्यवसाय प्रदान करने में मदद करेगा।

अब हम आपको बताते हैं की देवनागरी क्या है – देवनागरी पहली बार भारतियों को मुफ्त में अनुवाद देने वाला वेब एप्लीकेशन और मोबाइल एप्लीकेशन है जो भारतीय भाषाओं की वास्तविक भावनाओं को प्रेरित करता है, यह स्थानीयकरण उपकरण अनुवाद उद्योग के लिए भविष्य की बड़ी मिसाल है. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मानव प्रयासों की शक्ति के साथ एकीकृत एक मंच, देवनागरी अद्वितीय है और अनुवाद के घर में उसके नाम का पहला नाम है।

क्यूँ है जरूरी- 1.25 अरब लोगों से संचालित भारत एक ऐसे राष्ट्र है, जो किसी भी संभावित व्यापार के विकास के लिए अवसरों का विशाल हिस्सा रखता है. विकास की कल्पना करें समय के साथ और उस देश में जहां 22 से अधिक राष्ट्रीय भाषाओं में 1000 मूल भाषा हैं, व्यापार विकास अविश्वसनीय हो जाता है। और सही दर्शकों का अनुभव प्राप्त करना मुश्किल हो सकता है यदि तत्वों या स्थानीयकरण के तरीकों या प्रथा चिह्न तक नहीं हैं तो.

इसके अलावा, लंबे समय के कारक की वकालत की जाती है क्योंकि व्यापार अपने ग्राहकों / दर्शकों के साथ दीर्घकालिक संबंधों को बनाने और देवनागरी के साथ मिलान करने के बारे में है, स्थानीय सामग्री को सही प्रदान किया जाता है.

हमें सिस्टम की आवश्यकता क्यों है – “स्थानीयकरण करने के लिए स्थानीय में कार्य करना है”

स्थानीयकरण में सबसे महत्वपूर्ण है की आप किस तरह से किसी विशेष क्षेत्र या संस्कृति से भाषाओं के आधार को छूते हैं यह आपके व्यावसायिक उत्पाद या सेवा के माध्यम से एक निश्चित क्षेत्र के स्थानीय लोगों से बात करने की प्रक्रिया है. यही वह कारण है जिसकी कमी से कई उपक्रम उच्च रूप से आगे बढ़ने और सफलता की योग्यता का स्वाद देने में असमर्थ हो जाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here