कठुआ गैंगरेप केस में हुआ कांग्रेस की खौफनाक साजिश का पर्दाफ़ाश, जिसे देख आपके पैरों तले जमीन खिसक जायेगी

0
1144

श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में इसी साल जनवरी में आठ साल की बच्ची से गैंगरेप और हत्या के मामले में जांच कम और राजनीति ज्यादा हो रही है. कल रात कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, वरिष्ठ कोंग्रेसी नेता गुलाम नबी आजाद, अशोक गहलोत और दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कई नेताओं, प्रियंका वाड्रा, रोबर्ट वाड्रा व् कार्यकर्ताओं के साथ, बिना दिल्ली पुलिस से इजाजत लिए इंडिया गेट पर पहुंच गए और कैंडल मार्च निकाला. मगर अब इस मामले में उन्ही की पार्टी का नाम सामने आ रहा है.

कांग्रेस से जुड़े बलात्कार मामले के तार

बताया जा रहा है कि कठुआ जिले में असीफा नाम की लड़की के बलात्कार का मामला 1 हफ्ते पहले का नहीं है, बल्कि ये मामला 10 महीने पहले का है. मगर अचानक से एक हफ्ते पहले से एक षड्यंत्र के तहत मीडिया व् विपक्ष ने इस केस को लेकर हिन्दुओं के खिलाफ दुष्प्रचार शुरू कर दिया. मीडिया द्वारा कहा जा रहा है कि राज्य के हिन्दू आरोपियों का समर्थन कर रहे हैं, जबकि इसके तार अब कांग्रेस से जुड़ने लगे हैं.

दरअसल बताया ये जा रहा है कि राज्य बार काउन्सिल आरोपियों का बचाव कर रहा है और इन्हे हिन्दू वकील बताकर पूरे समुदाय पर कीचड उछाला जा रहा है. मगर इसे लेकर चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं. दरअसल खुलासा हुआ है कि जम्‍मू-कश्‍मीर बार एसोसिएशन का अध्‍यक्ष बीएस सलाथिया चुनाव के दौरान कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद का पोलिंग एजेंट था.

आपको बता दें कि बार एसोसिएशन के अध्यक्ष बी.एस. सलाथिया ने ही मुस्लिमों और रोहिंग्याओं के खिलाफ भाषण बाजी की थी, इसे हिन्दू बताते हुए मीडिया ने हिन्दू समुदाय पर कीचड उछालना तो शुरू कर दिया, मगर इसके कांग्रेस के साथ रिश्तों को उजागर नहीं किया.

कोंग्रेसी नेताओं की घिनौनी साजिश का खुलासा

इसके अलावा पंकज बसोत्रा नाम के एक अन्य व्यक्ति का नाम सामने आ रहा है, जिसे लेकर मीडिया हिन्दू समुदाय के खिलाफ दुष्प्रचार कर रही है. जानकारी मिली है कि पंकज बसोत्रा प्रदेश यूथ काग्रेस का महासचिव रह चुका है और एक एक्टिव कोंग्रेसी है. ये आये दिन बीजेपी व् पीएम मोदी के खिलाफ दुष्प्रचार करता रहता है.

नए-नए खुलासों से स्पष्ट हो रहा है कि कांग्रेस द्वारा मासूम बच्ची के बलात्कार का राजनीतिकरण किया जा रहा है. कोंग्रेसी कार्यकर्ता व् नेता बलात्कार के आरोपियों का बचाव कर रहे हैं और बदनाम हिन्दू समुदाय को कर रहे हैं. बताया ये भी जा रहा है कि राज्य में बसे हुए अवैध रोहिंग्या घुसपैठियों के लिए सुहानुभूति जुटाने के लिए हिन्दू समुदाय को बदनाम किया जा रहा है.

गुलाम नबी आजाद ने कबूला सच

जम्‍मू-कश्‍मीर बार एसोसिएशन के अध्‍यक्ष बीएस सलाथिया के कांग्रेस के वरिष्ट नेता गुलाम नबी आजाद का खासमखास होने का खुलासा होने पर कुछ देर के लिए कांग्रेस बैकफुट पर जरूर आयी, मगर फिर एक नयी थ्योरी के साथ सामने आ गयी है. गुलाम नबी आजाद ने स्वीकार किया है कि सलाथिया उसी का साथी रहा है, मगर उनका कहना है कि सलाथिया उस वक़्त सेकुलर हुआ करता था और अब अचानक से सलाथिया कम्युनल बन गया है.

बीजेपी व् मोदी को कमजोर करने के लिए कांग्रेस हर स्तर पर प्रयास कर रही है. कोरेगाव में दलित हिंसा, दलित क़ानून को लेकर भारत बंद के दौरान हिंसा, मध्य प्रदेश में किसान आंदोलन के नाम पर हिंसा और अब बलात्कार जैसे जघन्य अपराध का राजनीतिकरण किया जा रहा है और कीचड हिन्दुओं व् मोदी पर उछाला जा रहा है.

कांग्रेस जान चुकी है कि मोदी की विकास की राजनीति का उसके पास कोई तोड़ नहीं है, ऐसे में अब देश को जला कर, बांटकर, दंगों की राजनीति की जा रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here