दलित आंदोलन दंगा फसाद में शामिल इस कांग्रेसी नेता का नाम आया सामने, मोदी सरकार ने लिया बड़ा एक्शन

0
330

नई दिल्ली : देशभर में भारत बंद आंदोलन को दंगे का रूप दिया गया. करीब 10 राज्य में जमकर लूटपाट, और आगजनी की गयी. 14 लोगों की मौत हो गयी, हज़ारों करोड़ों की संपत्ति जल के राख जो गयी. जहाँ सभी राज्य सरकारें दलितों से राज्यों में शांति का माहौल बनाये रखने की विनती कर रहे थे वहीँ राहुल गाँधी सड़कों पर उतरे दलितों को ट्वीट में सलाम कर रहे थे.

दलित आंदोलन में दंगा फ़ैलाने में निकला कांग्रेस का हाथ

तो वहीँ अब खुद दंगे में कांग्रेस का बड़ा कनेक्शन निकला है, कि कैसे कांग्रेस खुद सड़कों पर उतरकर दंगे की आग में घी डाल रही थी. एक वीडियो वायरल हो चला है जिसके बाद कांग्रेस ने चुप्पी साध ली है.

अभी मिल रही बहुत बड़ी खबर के मुताबिक मध्यप्रदेश के मुरैना में बुधवार को कांग्रेस नेता के भाई की पुलिस पर फायरिंग का वीडियो सामने आया है. ये वीडियो सुप्रीम कोर्ट द्वारा एससी/एसटी एक्ट पर आए फैसले के विरोध में सोमवार (2 अप्रैल) को भारत बंद के आह्वान का है. पुलिस के अनुसार, गोली चला रहे व्यक्ति का नाम रवींद्र कथूरिया है.

हत्या की कोशिश का केस दर्ज

तो वहीँ अब इस मामले में पुलिस ने कांग्रेस नेता के भाई के खिलाफ हत्या की कोशिश का केस दर्ज कर लिया है. बता दें मध्य प्रदेश में सोमवार को भारत बंद के प्रदर्शनों ने हिंसक रूप ले लिया था. इस दौरान प्रदेश के कई जिलों में हिंसा के कारण सबसे ज़्यादा 8 लोगों की मौत हो गई थी. उपद्रवियों द्वारा हिंसा की सर्वाधिक घटनाएं ग्वालियर, भिंड और मुरैना में ही अंजाम दी गई थीं.

मुरैना के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि गोली चलाने वाला व्यक्ति गोविंद कथूरिया है. गोविंद, कांग्रेस नेता और पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष राजेश कथूरिया का भाई है. उन्होंने बताया कि वीडियो की जांच में सामने आया है कि कांग्रेस नेता के भाई ने पुलिस पर फायरिंग की है.

तो वहीँ अब कांग्रेसी के नेता का अजीबो गरीब बयान है उनका अखना है कि वो सड़कों पर उतरे ही नहीं थे न कोई गोली चलायी थी. वो तो बड़ी गंभीर बीमारी के चलते अस्पताल में भर्ती हैं. आपको याद दिला दें इससे पहले किसान आंदोलन को भी कांग्रेस ने ही भड़काया था. कांग्रेस की एक नेता ने कहा था पुलिस थाने फूंक डालो जो सामने आये उसे जला दो.

खुद दलित आंदोलन में घुस कर कांग्रेस दंगा भड़कवाती है और मोदी सरकार को दलित विरोधी बताती है. इस आंदोलन को दंगे का रूप देने में कांग्रेस का बड़ा हाथ है. खुद राहुल गाँधी ने सड़कों पर उतरे दलितों को शांत करने के बजाय उन्हें सलाम किया था.

पुलिस ने कांग्रेस नेता और पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष राजेश कथूरिया पर भी मामला दर्ज किया है. पुलिस ने गोविंद के खिलाफ बलवा और दंगा फैलाने की धाराओं में भी केस दर्ज किया है. उसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस की ओर से लगातार प्रयास किए जा रहे हैं. वहीं प्राप्त जानकारी के अनुसार मुरैना में अब तक करीब 55 लोगों के हिरासत में लिया गया है. साथ ही कई अज्ञात लोगों पर भी मुकदमा दर्ज किया गया है.

इस भारत बंद आंदोलन के पीछे सारी राजनीति और देश में दंगे की साज़िश पूरे विपक्ष की थी. हर छोटा बड़ा नेता इसमें बयानबाज़ी कर रहा था. तो वहीँ यूपी में BSP का दलित नेता को गिरफ्तार किया गया ये भी सड़कों पर दागियों के साथ मिलकर हुड़दंग मचा रहे थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here