ब्रेकिंग : नई दोस्ती जोड़कर राहुल ने मांगी देवगौड़ा से माफ़ी, वजह आपको हैरान कर देगी…

0
110

चुनाव प्रचार के दौरान राजनीतिक पार्टियाँ अपने विरोधियों पे जमकर शब्दों के प्रहार करती हैं. ये प्रहार इस हद तक बढ़ जाते हैं कि राजनीतिक दल सब मर्यादाओं को भूल जाते हैं. कर्नाटक विधानसभा चुनाव में भी यह सब बहुत देखने को मिला.

अब जब जनता ने किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं दिया है तब ये सभी दल अपनी बगलें झाँकने लगे हैं और गठजोड़ करने का तरीका ढूंढने लगे. फिर चाहे उन्हें कुछ भी क्यों न करना पड़े. अब ऐसा ही एक काम कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गाँधी ने किया है. जिसे जानकर आप उन हँसे बिना नहीं रह पाओगे.

आपको बता दें कि आज पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा को जन्मदिन है. वहीँ कर्नाटक में एच डी देवगौड़ा की पार्टी जेडीएस को 38 सीटें मिली है जिसके चलते कांग्रेस सत्ता का रास्ता तलाश रही है. इसी मौके पा फायदा उठाने के लिए राहुल गाँधी ने पहले तो एच डी देवगौड़ा को जन्मदिन की बधाई दी हैं साथ ही उन्होंने माफ़ी भी मांगी है.

राहुल ने ट्वीट करते हुए लिखा कि “मैं श्री एच डी देवेगौड़ा को जन्मदिन की बधाई देता हूं, उनके अच्छे स्वास्थ्य और आनंदमय जीवन की कामना करता हूं.” राहुल गांधी ने कर्नाटक चुनाव प्रचार के दौरान एचडी देवगौड़ा के खिलाफ इस्तेमाल किये गये शब्दों के लिए माफी भी मांगी.

रिपोर्ट के मुताबिक राहुल गांधी ने कर्नाटक चुनाव प्रचार के दौरान पूर्व पीएम देवगौड़ा पर निजी हमले करने और जेडीएस पर निशाना साधने के लिए कथित तौर पर देवगौड़ा से माफी भी मांगी. राहुल गाँधी ने कर्नाटक के मंड्या में एक चुनावी रैली के दौरान जनता दल सेकुलर को बीजेपी की बी टीम करार दिया था. इतना ही नहीं उन्होंने जनता दल सेकुलर पर टिप्पणी करते हुए इसे ‘जनता दल (संघ परिवार)’ तक कह दिया था.

बता दें कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस और जेडीएस ने लगातार एक दूसरे पर हमले किये थे. विधानसभा चुनाव के नतीजों में त्रिशंकु विधानसभा की हालत पैदा होने के बाद 78 सीटें पाने वाली कांग्रेस और 38 सीटें जीतने वाली जेडीएस ने समझौता कर लिया है. अब दोनों ही पार्टियां मिलकर कर्नाटक में सरकार बनाना चाहती है.

वहीँ जेडीएस के प्रमुख कुमारस्वामी ने भी कांग्रेस की तरह उस पर हमले किये और किसी से भी गठबंधन न करने की बात कही थी. डियो में कुमारस्वामी विधानसभा चुनाव में किसी पार्टी से गठबंधन न करने की बात कह रहे हैं. वीडियो में कुमारस्वामी कह रहे हैं कि उनकी पार्टी पूर्ण बहुमत से आएगी तभी वो सरकार बनाएंगे अगर बहुमत नहीं मिला तो वह किसी भी कीमत पर सरकार नहीं बनाएंगे. वह दोबारा से चुनाव मैदान में जाना पसंद करेंगे.

आप वीडियो में देख सकते हैं कुमारस्वामी का बयान:

ये दोनों पार्टियाँ चुनाव से पहले एक दूसरे की विरोधी थी लेकिन बहुमत किसी एक के पक्ष में ना जाने की चलते अब एक होने का नाटक कर रही हैं और जनता को चुनाव के समय पर मूर्ख बनाने का काम कर रही थीं. आप भी समझ सकते हैं कि अब इनकी दोस्ती सिर्फ सत्ता सुख के लिए हुई है. न कि जनता की सेवा करने के लिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here