बिग ब्रेकिंग: सुप्रीम कोर्ट ने सुना दिया फैसला ! कल 4 बजे कर्नाटक में…

0
92

कर्नाटक में 15 मई को विधानसभा के नतीजे आने के बाद सरकार बनाने को लेकर काफी खींचतान मची. कर्नाटक से आये नतीजों ने सभी को हैरान कर दिया. राज्य में बीजेपी 104 सीटों के साथ सूबे की सबसे बड़ी पार्टी बनकर सामने आयी.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने कर्नाटक में अपनी सरकार बचाने के लिए पुरजोर कोशिश की थी लेकिन मोदी सरकार में उनके सारे इरादे धराशायी हो गये. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह जिस राज्य में जाकर चुनाव प्रचार करते हैं और रणनीति बनाते हैं वो कभी फेल नहीं होती है.

जानकारी के लिए बता दें सभी पार्टियों के जोरदार प्रचार के बाद बीजेपी ही सबसे ज्यादा सीट लेकर आई. जिसके बाद सरकार बनाने को लेकर विपक्षीय पार्टियों ने पूरी कोशिश की. लेकिन कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई ने सही विकल्प को चुनते हुए बीजेपी के लिए सरकार बनाने का न्यौता दिया था.

इसके पीछे की वजह ये थी कि राज्य में बीजेपी की सबसे ज्यादा सीटें जिसके चलते उन्होंने यह फैसला लिया. जिसके बाद 17 मई को बीजेपी की सरकार बनी और येदियुरप्पा ने राज्य के 24 वें मुख्यमंत्री पद के रूप में शपथ ली.

राज्य में बीजेपी की सरकार बनने को लेकर राज्यपाल के फैसले के बाद कांग्रेस और जेडीएस ने इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस की याचिका पर 18 मई शुक्रवार को सुनवाई होनी थी.

इससे पहले गुरुवार को तड़के चली बहस में तीन जजों की संविधान ने येदियुरप्पा के शपथ ग्रहण लेने के राज्यपाल के आदेश पर जस्टिस एके सीकरी, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस बोबडे ने रोक लगाने से इंकार कर दिया था. जिसके बाद शीर्ष अदालत ने कांग्रेस की याचिका सुरक्षित रख लिया था.

जिसपर सुनवाई चल रही है. तीन जजों की पीठ ने उस चिट्ठी को मंगाया है जो राज्यपाल ने बीजेपी के लिए लिखी थी. कांग्रेस की मांग क्‍या है?-कांग्रेस ने बुधवार की रात कांग्रेस ने याचिका के जरिये मांग की थी कि येदियुरप्पा सरकार के शपथ ग्रहण पर रोक लगाई जाए. राज्यपाल के फैसले को कोर्ट द्वारा खारिज किया.

कांग्रेस की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला-

सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस की याचिका दायर करने को लेकर बड़ी खबर आ रही है. दोनों पक्षों ने अपना-अपना पक्ष रखा. जिसके बाद कोर्ट ने बड़ा फैसला लिया है. कल शाम को 4 बजे शक्ति परिक्षण होगा विधानसभा के अंदर. सुप्रीम कोर्ट ने 19 मई शाम 4 बजे शक्ति परिक्षण करने का फैसला सुनाया है. 4 बजे फ्लोर टेस्ट होगा. ये सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी चुनौती दी है.

येदियुरप्पा को कल 4 बजे कर्नाटक में शक्ति-प्रदर्शन करना होगा. कोर्ट के इस फैसले के बाद खुद येदियुरप्पा और शोभा करान्द्जले ने सामने आकर कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है और कहा है कि वह कल बहुमत साबित करेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here