दुनिया में आया बहुत बड़ा भूचाल, अमेरिका,जापान,कोरिया में मचा हड़कंप, मोदी के भारत ने गाड़ा झंडा

0
329

दुनिया भर में आज अचानक से बहुत बड़ा आर्थिक भूचाल खड़ा हो गया है. अमेरिका समेत देशभा रके शक्तिशाली देश इस आर्थिक तूफ़ान की चपेट में आ गए हैं लेकिन मोदी राज के चलते मज़बूत आर्थिक निति की वजह से आज भारत इस बड़े आर्थिक संकट को हँसते हँसते झेल रहा है.

दुनिया में आया आर्थिक भूचाल, दिग्गज देशों के छूटे पसीने,

अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक अमेर‍िकी बाजार में पिछले 6 साल में सबसे बड़ी गिरावट ने दुनिया भर के शेयर बाजार की हवा निकाल दी. जापान के शेयर बाजार का प्रमुख इंडेक्स निक्केई 1,115 अंक यानि 5.2 फीसदी की भारी गिरावट के साथ 21,567 के स्तर पर कारोबार करता देखा जा रहा है.

वहीं हॉगकॉन्ग के प्रमुख इंडेक्स हैंग सेंग में 1,000 अंकों से अधिक यानी यानि 3.2 फीसदी से अधिक की गिरावट दर्ज हो चुकी है. फिलहाल हैंग सेंग लुढ़ककर 31,240 के स्तर पर कारोबार करता देखा गया है.

भारत ने गाड़ा झंडा

हालाँकि भारतीय बाजार ने अन्य देशों के मुकाबले कम गिरावट देखी है, फिलहाल सेंसेक्स 1046.88 अंकों की गिरावट के साथ 33,681.94 के स्तर पर कारोबार कर रहा है. वहीं, निफ्टी भी फिलहाल 10343 के स्तर पर है. इसमें 323.55 अंकों की गिरावट देखने को मिल रही है.

अगर यही सेंसेक्स जो की कांग्रेस के वक़्त था अगर 22000 पर होता तो आज भारत में भी आर्थिक संकट खड़ा हो गया होता. लेकिन मज़बूर आर्थिक फैसलों के कारण अभी भी 33000 के पार खड़ा है ओर विदेशी मुद्रा भंडार 417 बिलियन डॉलर के रिकॉर्ड स्तर तक पहुंच गया है.

एशिया के बाजार में मची ज़बरदस्त खलबली

इन एशियाई बाजारों के अलावा कोरियाई बाजार का प्रमुख इंडेक्स कोस्पी भी 2.8 फीसदी लुढ़का है और स्ट्रेट्स टाइम्स में भी 2.3 फीसदी से अधिक की गिरावट देखने को मिल रही है. ताइवान के इस प्रमुख इंडेक्स में 310 अंकों की यानि 2.9 फीसदी की गिरावट देखी जा रही है. फिलहाल स्ट्रेट्स टाइम्स 10,635 के स्तर पर कारोबार करता देखा गया है.वहीं, ऑस्ट्रेलिया का एसएंडपी/एएसएक्स 200 अंक गिरकर खुला है. इसमें 3 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है.

अमेरिका में आयी 6 साल में सबसे बड़ी गिरावट

आपको बता दें 2011 के बाद से अमेरिकी बाजार डाउ जोन्स की ये 6 साल में सबसे बड़ी गिरावट है. सोमवार को डाउ जोन्स इंडस्ट्रीयल एवरेज 1175 अंक की गिरावट के साथ बंद हुआ. इतिहास में यह डाउ जोन्स में एक दिन में आई यह सबसे बड़ी गिरावट है.

अमेरिकी बाजार के बड़ी गिरावट के साथ बंद होने का असर एश‍ियाई बाजार पर साफ नजर आ रहा है. एश‍ियाई बाजारों में भी कमजोरी नजर आ रही है. मंगलवार को इस कमजोर का असर घरेलू बाजार पर भी देखने को मिल रहा है.

बॉन्ड यील्ड बढ़ने के डर से शुक्रवार को भी अमेरिकी बाजार में गिरावट देखने को मिली. दरअसल बॉन्ड यील्ड में बढ़ोतरी से आशंका जताई जाती है कि ब्याज दरों में बढ़ोतरी होगी. इससे डाउ जोन्स 666 अंक टूटा था.यह गिरावट लंबे समय से चलने वाले बाजार की स्थिरता के लिए चिंता का विषय है. 2016 से डाउ जोन्स विश्व का सबसे बड़ी वैश्विक बिक्री था, लेकिन एशिया से यूरोप, यूरोप से अमेरिका के बाजारों को मुद्रास्फीति की चिंताओं ने हिला दिया.

समझदारी के साथ बाजार में पैसा लगाइये

तो वहीँ अब इस बड़े आर्थिक संकट को लेकर जानकारों का मानना है कि निवेशकों को सोच समझकर बाजार में फिलहाल निवेश करना चाहिए. उनका कहना है कि अभी गिरावट का दौर जारी और यह दौर कुछ दिन और चल सकता है, इसलिए सभी को समझदारी के साथ बाजार में पैसा लगाना चाहिए.

एक तरह से देखा जाय तो अमेरिका की बाजारों के लिए सोमवार का दिन काला दिवस की तरह साबित हुआ है। कल सोमवार को अमेरिकी बाजारों में 6 साल की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज की गई थी। इस गिरावट के साथ ही अमेरिकी बाजारों ने पिछले एक साल की सारी बढ़त एक दिन में गंवा दी। अमेरिकी बाजारों का एसएंडपी 500 इंडेक्स और डाओ जोंस इंडस्ट्रीयल इंडेक्स 4 फीसदी से ज्यादा नीचे गिर गया था.

ये विडियो देखें :

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here