गाज़ीपुर के मदरसे कांड में मौलवी पर हुआ ये बड़ा एक्शन, गुस्से से भड़के लोग, जमकर की तोड़फोड़

0
455

नई दिल्ली : कठुआ कांड का अभी माहौल शांत भी नहीं हुआ था की दिल्ली-गाजियाबाद के मदरसे का खौफनाक कांड सामने आया है. जिसने कई लोगो को झकझोर के रख दिया है. लेकिन इस केस में कठुआ की तरह न ही राहुल गांधी अपने परिवार समेत इंडिया गेट पर कैंडल मार्च निकलने गए, ना ही फिल्मबाज़ के एक्टर ने तख्ती दिखाई और न ही शर्मिंदगी महसूस करी.

ना ही किसी वामपंथी संगठन ने JNU के साथ मिलकर चंदा इकठ्ठा किया जिसे पीड़ित परिवार को कोई मदद हो सके और न ही दोगले मीडिया ने इस पर डिबेट कर प्राइमटाइम दिखाया न ही ब्रेकिंग न्यूज़ चलायी क्यूंकि इस बार देवीस्थान की जगह मदरसे का नाम शामिल था. सिर्फ और सिर्फ हिन्दू संगठन ने जागरूकता दिखाई और सड़कों पर प्रदर्शन किया. तो वहीँ अब मदरसे के मौलवी गुलाम शाहिद पर कड़ा एक्शन हुआ जिसकी सब तरफ से मांग उठ रही थी.

अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक दिल्ली के गाजीपुर से अगवा कर नाबालिग लड़की से दुष्कर्म किए जाने के मामले में क्राइम ब्रांच ने मदरसे के मौलवी को भी गिरफ्तार कर लिया गया है. मदरसे के मौलवी पर सबस कड़े कानून POCSO एक्ट के तहत गिरफ़्तारी की गयी है. साथ ही उस नाबालिग को भी गिरफ्तार कर लिया गया है.

मौलवी के घर को तोड़फोड़ करके तहस नहस कर दिया

लेकिन क्यूंकि अब कानून को निर्भया केस के बाद और ज़्यादा कड़े कर दिए हैं इसलिए इस केस में नाबालिग आरोपी को भी बालिग़ समझा जाएगा और कड़ी सजा दी जायेगी. तो वहीँ अब आम जनता का भी हवसी मौलवी पर गुस्सा भड़क उठा है आम लोगों की भीड़ ने मौलवी के घर को तोड़फोड़ करके तहस नहस कर दिया है.

बता दें गाजीपुर की इस खबर के आने के बाद से स्पेशल क्राइम ब्रांच की टीम ने गहनता से जांच करी. जिसमे सबसे पहले CCTV कैमरा से खुलासा हुआ कि बच्ची को लड़का मदरसे में ले जा रहा है. उसके बाद जब पुलिस ने मदरसे में छापा मारा तब भी लड़की को एक कपडे में लपेट कर रखा गया था.

मदरसे में कानून तोड़कर एक के बजाय 4 से ज़्यादा लाउडस्पीकर लगाए हुए थे जिससे किसी दुष्कर्म की आवाज़ बाहर न जा सके. यही नहीं बच्ची के साथ इतनी निर्ममता हुई की उसके शरीर पर नशे के इंजेक्शन के घोंपे गए और मौलवी समेत कई लोगों ने दुष्कर्म किया. जिस कमरे में बच्ची को रखा गया वो कमरा भी मौलवी का है इस कमरे में मौलवी आराम फ़रमाया करता था.

सोमवार को लड़की ने कोर्ट में 164 के बयान दिए थे. लड़की ने बताया की उसे 17 वर्षीय लड़का अपने साथ गाजियाबाद के अर्थला इलाके में स्थित मदरसे में लाया था.दिल्ली पुलिस के जेसीपी रवीन्द्र यादव के मुताबिक मदरसे में लड़की को एक दिन के लिए रखा गया था. आरोपी नाबालिग लड़का भी मदरसे में पढ़ता है.

इस बार लोगों का गुस्सा सबसे ज़्यादा उन दोगलों पर फूटा है जो मंदिर और हिन्दू धर्म को बदनाम कर रहे थे और तो और भगवान राम और भगवान शिव के अश्लील चित्र बना रहे थे. दिल्ली के सीएम की करीबी स्वाति मालीवाल तो आमरण अनशन पर बैठ गयी थी. लेकिन जानबूझकर इस बार कोई न्याय और फांसी की मांग नहीं कर रहा है और ना ही कोई आमरण अनशन पर बैठ रहा है और न ही मौलवी को फांसी दिए जाने की मांग उठा रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here